आप भी जानिए धोनी के इस्तीफे की वजह क्या है ।


आप भी जानिए धोनी के इस्तीफे की वजह क्या है ।

11 दिसम्बर को भारत इग्लैंड का टेस्ट मैच चल रहा था और इंडिया जीत के दहलीज पे खड़ी थी, यही वो समय था जब भारत के महान कप्तान और क्रिकेटर महेंद्रसिंह धोनी ने कप्तानी छोड़ने का मन बनाया।इसका वजह थे इंडियन टीम के टेस्ट कप्तान विराट कोहली, जिनके नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही थी।
धोनी ने मन बनाने के बाद इसकी जानकारी बी.सी. सी. आई. को म.स .प्रसाद से मिलकर दे दी और विराट को भी इससे अवगत करा दिया ।

विराट ने धोनी से फैसले को वापस लेने के लिए आग्रह भी की लेकिन धोनी अपने फैसले पे अड़े रहे, जकि बी.सी. सी. आई. ने फैसले को धोनी पे ही छोड़ दिया ।

धोनी का ये फैसला चौकाने वाला तो था ही, पर सबको इस बात का अहसास था की धोनी का फैसला कुछ ऐसा ही आएगा जो सबको चौक देगा ।

धोनी के फैसले के पीछे का वजह विराट कोहली का लगातार अच्छा प्रदर्शन और टीम इंडिया का प्रदर्शन विराट के नेतृत्व में लगातार अच्छा होना था ।
दूसरी बात और की २०१६ में धोनी का प्रदर्शन बहुत ख़राब रहा है, उनका औषत २६.८ का रहा जो की सबसे ज्यादा बेकार था उनके कैरीअर के लिहाज से भी ।बैटिंग में लगातार गिरावट की वजह से ड्रेसिंग रूम में उन्हें अपने लिए रिस्पेक्ट की कमी महशूस होने लगी थी ।
धोनी ने अपने कर्रिएर में जो भी फैसले लिए वो काबिले तारीफ थे, चाहे टी-२० के मैच में जोगिन्दार शर्मा का अंतिम ओवर देना या फाइनल में युवराज की जगह आकर खूद खेलना या टेस्ट से सन्यास लेना ।
सूत्रों के मुताबित धोनी को विराट में अब एक पूर्ण कप्तान नजर आने लगा है और वो चाहते हैं की यही सही टाइम है जब भारत को विराट कोहली जैसा कप्तान मिले ।
सारे चीजों पे ढंग से बिचार करने बाद उन्होंने ने अपना फैसला बी.सी.सी.आई को सुना दिया ।

धोनी भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे महानतम कप्तान इसलिए जाने जायेंगे की उन्होंने अपने कैरीअर में कभी भी अपने किसी रिकॉर्ड के लिए नही खेला।
उन्होंने अपने कैरीअर के उचाई पे उस समय कप्तानी छोड़ी जब उनको एहसास हो गया की भारतीय टीम को किसी नए कप्तान की जरूरत है , जिसके साथ पूरा क्रिकेट टीम खेलना चाहती है।

यही वजह रहा की धोनी के टेस्ट से सन्यास लेने के बाद भारतीय टीम फिर से दुनिया की नंबर एक टीम बन गयी।

धोनी को जब से ये महशूस होने लगा की अब उनकी जरूरत कप्तान की तरह नही एक खिलाडी की तरह भारतीय टीम को है और भारत का भविष्य विराट के हाथों में अब शुरछित है तब उन्होंने कप्तानी छोड़ने का मन बनाया।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *